कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

रबी मक्का

रबी गेंहू कठिया (डयूरम) गेहूँ की खेती जौ जई तोरिया (लाही) राई और सरसों पीली सरसों अलसी कुसुम रबी मक्का शिशु मक्का (बेबी कॉर्न) की खेती चना मटर मसूर रबी राजमा बरसीन रबी शाकभाजी एवं मसाला फसलों के प्रभावी बिन्दु बोरो धान की खेती आलू उत्पादन की तकनीकी प्रदेश में आलू उत्पादन हेतु प्रमुख प्रजातियाँ मशरूम की खेती सहफसली खेती कांस उंप मोथा का रसायनों द्वारा नियंत्रण संतुलित उर्वरक प्रयोग में नीम लेपित यूरिया का उपयोग एकीकृत पोषक तत्व प्रबन्धन कृषि उत्पादों में जैव उर्वरकों की महत्ता एवं उपयोग नादेव (नैडप) कम्पोस्ट जैविक कृषि में केंचुआ खाद जैविक कृषि में केंचुआ खाद रबी हेतु उपयोगी कृषि यंत्र बौछारी (स्प्रिंकलर) सिंचाई विधि रबी के मौसम में ऊसर सुधार कार्यक्रम जैविक एजेंट एवं जैविक कीटनाशकों के प्रयोग द्वारा कृषि रक्षा प्रबन्धन एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन (इंटीग्रेटेड पेस्ट मैनेजमेंट) विभागीय कृषि रक्षा इकाइयों पर उपलब्ध फसल सुरक्षा रसायनों का नाम व मूल्य प्रतिबन्धित रसायनों की सूची प्रतिबंधित कीटनाशकों की सूची प्रमुख रसायनिक फसलों के आंकड़े उर्वरको की पहचान किसान काल सेन्टर मौन पालन एक लाभदायक व्यवसाय बीज उत्पादक कम्पनियों के नाम महत्वपूर्ण दूरभाष नम्बर

रबी मक्का की खेती उत्तर/पूर्वी मैदानी क्षेत्रों में की जाती है। प्रदेश के अन्य सिंचित भागों में भी इसकी खेती सफलतापूर्वक की जा सकती है।

संस्तुत सघन पद्धतियाँ

संकर और संकुल मक्का की अनुमोदित प्रजातियों का विवरण निम्नवत है

क्र. सं. किस्म का नाम रिलीज होने के वर्ष रंगों और दानों आकार जीरा निकलने की अवधि (दिन) पकने की अवधि (दिन) उत्पादन क्षमता कु०/हे०
संकर मक्का
1 बुलन्द 2005 पीला, गोल 85-90 150-155 70-80
2 पीएमएच-3 2008 नारंगी, गोल 85-90 150-160 70-80
3 डक्कन-105 1991 नारंगी, अर्द्धचपटा 85-90 150-160 70-80
4 त्रिशूलता 1991 नारंगी, अर्द्धचपटा 85-90 150-160 70-80
5 शक्तिमान-1 2001 सफेद, चमकदार 85-90 150-155 70-80
6 एक्स-1382 (3054) 1998 पीला, अर्धचपटा 85-90 155-160 70-80
7 के.एच.-5981 1997 पीला, अर्धचपटा 85-90 155-160 70-80
8 के.एच.-5991 1997 पीला, अर्धचपटा 85-90 155-160 70-80
9 सीडटेक-2324 2001 पीला, अर्धचपटा 85-90 155-160 70-80
10 एच.क्यू.पी.एम.-1 2005 पीला, चपटा 85-90 150-160 70-80
संकुल मक्का
1 धवल 1988 सफेद अर्द्धचपटा 75-79 145-150 50-60
2 शरदमणी 2008 नारंगी पीला 82-87 125-130 45-50
3 शक्ति-1 1997 पीला, अर्द्धचपटा 75-80 130-135 40-45
लावा हेतु
4 अम्बर-पॉपकार्न 1988 नारंगी, गोल 75-80 135-140 30-35
5 वी.एल. अम्बर-पॉपकार्न 1982 नारंगी, गोल 75-80 135-140 30-35
6 पर्ल-पॉपकार्न 1996 नारंगी, गोल 75-80 135-140 30-35
हरे भुट्टे हेतु मीठी मक्का (स्वीट कार्न)
7 माधुरी स्वीट कार्न 1990 पीला, चपटा 80-85 120-125 भुट्टा तैयार
8 प्रिया स्वीट कार्न 2002 पीला, चपटा 80-85 120-125 भुट्टा तैयार
चारा हेतु मक्का
9 अफ्रीकन टाॅल 1982 - - 350-400 कु० हरा चारा
10 जे.-1006 1992 - - 300-350 कु० हरा चारा
नोट: विशेष उपयोग हेतु मक्का की खेती के समय यह ध्यान रखा जाये कि 400 मीटर के आस-पास मक्का की अन्य प्रजातियाँ न लगाई जाये।

खेत की तैयारी

दोमट मिट्टी रबी मक्का के लिये उपयुक्त होती है। सामान्यतः 1-2 जुताई मिट्टी पलटने वाले हल या डिस्क हैरो से करके मिट्टी भुरभुरी बना लें। यदि नमी की कमी हो तो पलेवा करके खेत की तैयारी कर लें। ट्रैक्टर चालित रोटावेटर द्वारा एक ही जुताई में खेत अच्छी तरह तैयार हो जाता है।

बुआई का समय

रबी मक्का की उपयुक्त बुआई का समय 15 अक्टूबर से 15 नवम्बर तक का है।

बीज दर व बुआई की विधि

रबी मक्का हेतु 20-22 किग्रा० बीज प्रति हेक्टर का प्रयोग करें जिससे लगभग 85-90 हजार पौधे प्रति हेक्टर प्राप्त हो सकें। बुआई के पूर्व बीज शोधन अवश्य करें, पंक्ति से पंक्ति की दूरी 60 सेमी० तथा पौधे से पौधे की दूरी 20-25 से.मी रखे।

बीज शोधन

बीज जनित रोगों से बचाव हेतु बीज को थीरम 2.5 ग्राम अथवा कार्बान्डाजिम 50 प्रतिशत की 2 ग्राम मात्रा में प्रति किलोग्राम बीज की दर से शोधित करके बोना चाहिए।

उर्वरक

उर्वरक की मात्रा किस्मों एवं मृदा परीक्षण के अनुसार निम्नानुसार प्रयोग करना लाभदायक रहता है।

नत्रजन फास्फोरम पोटाश गंधक
संकर मक्का 150 किग्रा०/हे० 75 किग्रा०हे० 60 किग्रा०/हे० 40 किग्रा०/हे०
संकुल मक्का 120 किग्रा०/हे० 60 किग्रा०/हे० 40 किग्रा०/हे० 30 किग्रा०/हे०