कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

मशरूम की खेती

खरीफ एग्रोक्लाइमेटिक जोनवार धान संकर धान बासमती एवं सुगंधित धान सिस्टम ऑफ राइस इंटेंसीफिकेशन जीरो टिल से बुवाई मक्का बाजरा ज्वार सॉवा कोदो राम दाना की खेती मूंगफली सोयाबीन तिल अंडी (अरण्ड) अरहर मूंग उर्द सहफसली खेती खरपतवार नियंत्रण लोबिया तोरिया हरा चारा बीज का महत्त्व क्रॉस एवं मोथा ऊसर सुधार कार्यक्रम सनई की खेती जैव उर्वरक महत्ता एवं उपयोग फसल सुरक्षा रसायनों का नाम व मूल्य पोषक तत्व प्रबंधन फसल चक्र यंत्र एवं मशीनरी खरीफ फसलों के आंकड़े (परिशिष्ट एक एवं दो ) एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन कार्यक्रम का मासिक कैलेंडर सघन पद्धतियाँ 2016 मशरूम की खेती जैविक खेती फसलों के अवशेष धान की बुवाई रक्षा रसायन प्रमुख रासायनिक उर्वरक खरीफ फसलों के आंकड़े नकली एवं मिलावटी उर्वरकों की पहचान सत्यापित प्रजातियां महत्वपूर्ण दूरभाष नम्बर

उपज
सूखे भूसे के भार का 70 से 80 प्रतिशत उत्पादन प्राप्त हो जाता है।

धान के पुआल का मशरूम (वालवेरियल्ला प्रजाति)
इस मशरूम को चाईनीज मशरूम तथा गर्मी का मशरूम भी कहा जाता है। इसकी खेती सर्वप्रथम सन् 1822 में चीन में शुरू हुई थी। यह बहुत ही कम समय में तैयार होने वाला मशरूम है। भारतवर्ष में इसकी खेती प्रायः समुद्र तटीय राज्यों जैसे-पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, कर्नाटक, तमिलनाडु, छत्तीसगढ़ एवं आन्ध्र प्रदेश में की जाती है। वर्तमान में इसकी खेती देश के मैदानी भागों में प्रायः माह जुलाई से सितम्बर तक की जाती है।

उपयुक्त प्रजातियाँ
वालवेरियल्ला डिप्लेसिया, वाललेरियल्ला वालवेसिया

समय
जून से सितम्बर

खेती की विधि
आधार सामग्री की तैयारी तथा शैय्या बनाने हेतु धान के वाल लगभग 1.25 किग्रा० के 35 बंडलो की आवश्यकता होती है। इन बंडलों को रात भर (12 से 14 घण्टे तक) साफ पीने योग्य पानी में भिगोया जाता है। इसके पश्चात् इन बंडलो को बाहर निकालकर अतिरिक्त पानी निथार दिया जाता है जब इसमें नमी 68-70 प्रतिशत शेष रह जाती है तो इन बंडलो को फसलक्ष में ईटों अथवा बांस के ट्टर या स्टील के बने फ्रेम पर चार-चार बंडलों को इस तरह से रखते हैं कि इनमें आमने-सामने का भाग एक दूसरे के सामने एवं लगभग 6 इंच तक एक दूसरे के ऊपर रहे।

बिजाई
अब इन बंडलो के ऊपर चारों तरफ से 6 इंच की जगह छोड़कर लगभग 50 ग्राम स्पान तथा 20 ग्राम चने के बेसन को समान रूप से छिड़क देते है। इसके ऊपर इसी तरह की बंडलो की दूसरी, तीसरी एवं चौथी पर्त बिछाकर प्रत्येक पर्त पर प्रथम पर्त के तरह की बिजाई कर दी जाती है। शेष बचे तीन बंडलो की चौथी पर्त के ऊपर बिछाकर पूरी शैय्या को सफेद पालीथीन से ढक दिया जाता है। इस समय फसल कक्ष का तापक्रम 32 से 35 तथा आपेक्षित आर्द्रता लगभग 85-90 प्रतिशत होनी चाहिए। बिजाई के लगभग एक सप्ताह पश्चात् फंफूद पूरे पुआल में फैल जाती है और शैय्या के किनारे-किनारे बटन के आकार के मशरूम दिखाई देने लगते हैं। इस समय पालीथीन को हटाकर तापक्रम एवं आपेक्षित आर्द्रता बनाये रखा जाता है। अगले 4-5 दिन के अन्दर ही मशरूम अण्डाकार अवस्था में आ जाता है और इस अवस्था पर ही तोड़ लेना चाहिए। इस तरह से एक फसल 22 से 25 दिन के अन्दर पूर हो जाती है।

उपज
सूखे पुआल के भार के आधार पर 6 से 7 प्रतिशत उपज प्राप्त हो जाती है।

मशरूम स्पान प्राप्त करने के स्रोत
मशरूम की खेती करने के लिए गुणवत्तायुक्त स्पान अति आवश्यक है। जिसके लिये निम्न स्रोतों से सम्पर्क किया जा सकता है।

  • पादप रोग विज्ञान विभाग, चन्द्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, कानपुर।
  • पादप रोग विज्ञान विभागः गोविन्द बल्लभपन्त कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय पन्त नगर, उधमसिंह नगर, उत्तरांचल।
  • पादप रोग विज्ञान विभागः राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय, उदयपुर राजस्थान।
  • पादप रोग विज्ञान विभागः महात्मा फूले कृषि विद्यापीठ, पूना महाराष्ट्र।
  • पादप रोग विज्ञान विभागः हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, हिसार हरियाणा।

मशरूम प्रशिक्षण

मशरूम उत्पादन में प्रशिक्षण एक महत्वपूर्ण अंग है। क्योंकि बिना प्रशिक्षण प्राप्त किये कोई व्यक्ति मशरूम का सफलता पूर्वक उत्पादन नहीं कर सकता है। सभी सामग्री का सही मात्रा में प्राप्त करने सम्बन्धित जानकारी हेतु निम्न केन्द्रों से सम्पर्क किया जा सकता है।

  • राष्ट्रीय खुम्ब अनुसंधान केन्द्र, बम्बाघाट सोलन (हि०प्र०)
  • पादप रोग विज्ञान विभागः चन्द्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कानपुर-208002 उ०प्र०

अखिल भारतीय समन्नित मशरूम विकास परियोजना के अन्तर्गत कुछ राज्य स्तरीय ने भी प्रशिक्षण कार्य चलाया जा रहा है जोकि निम्नवत् है।

  • पादप रोग विज्ञान विभागः इन्दिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर छत्तीसगढ़।
  • पादप रोग विज्ञान विभागः आई०आईएच०आर० बंगलोर कर्नाटक।
  • उद्यान विभाग, मेघालय, शिलांग।
  • उद्यान निदेशालय, लखनऊ, उ०प्र०।
  • उद्यान निदेशालय, ईटानगर, अरूणांचल प्रदेश।