कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

उत्तर प्रदेश


उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था का मूल आधार कृषि है तथा लगभग 65 प्रतिशत जनसंख्या कृषि पर आधारित है। प्रदेश के आर्थिक विकास में कृषि क्षेत्र का महत्वपूर्ण योगदान है। वर्ष 2014-15 के आंकड़ों के अनुसार प्रदेश में लगभग 165.98 लाख हैक्टेयर (68.7%) क्षेत्र में खेती की जाती है। कृषि गणना वर्ष 2010-11 के अनुसार उत्तर प्रदेश में 233.25 लाख कृषक हैं। कृषि की आधुनिक तकनीक का उपयोग कर उत्पादन तथा उत्पादकता में वृद्धि की दिशा में कृषकों की मेहनत एवं प्रयास का ही परिणाम है कि कृषि ने प्रदेश को खाद्य सुरक्षा में आत्मनिर्भर बनाते हुये “आवश्यकता से आधिक्य” की ओर पहुँचाया है।

वर्ष 2015-16 में 626.64 लाख मै0टन खाद्यान्न उत्पादन लक्ष्य के सापेक्ष 439.47 लाख मै0टन खाद्यान्न उत्पादन हुआ जिसमें खरीफ में 159.12 लाख मै0टन तथा रबी में 280.35 लाख मै0टन खाद्यान्न उत्पादन हुआ इसी प्रकार तिलहनी फसलों में 13.03 लाख मै0 टन के सापेक्ष 8.47 लाख मै0टन (शुद्ध) उत्पादन हुआ।

वित्तीय वर्ष 2016-17 में कृषि विभाग हेतु 5.1 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि दर को बनाये रखते हुये कुल खाद्यान्न 659.49 लाख मै0टन का उत्पादन स्तर प्राप्त करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जिसके सापेक्ष 539.14 लाख मै0टन खाद्यान्न का अनुमान हैं जिसमें खरीफ के अन्तगर्त 180.25 लाख मै0टन खाद्यान्न उत्पादन प्राप्त हुआ तथा रबी में 355.90 लाख मै0टन खाद्यान्न उत्पादन का अनुमान है। इसी प्रकार तिलहनी फसलों में 14.13 लाख मै0टन (शुद्ध) लक्ष्य के सापेक्ष 10.37 लाख मै० टन का अनुमान है।

वर्ष 2015-16 में कुल 52.26 लाख कु० लक्ष्य के सापेक्ष 45.53 लाख कु० का बीज वितरण किया गया। वर्ष 2016-17 में कुल 55.63 लाख कु० के सापेक्ष 51.06 लाख कु० का बीज वितरण किया गया है। जिसमें खरीफ में 10.87 लाख कु० एवं रबी में 40.53 लाख कु0 बीज वितरण किया गया।

वर्ष 2015-16 में कुल 88.67 लाख मै0टन उर्वरक वितरण लक्ष्य के सापेक्ष 108.39 लाख मै0 टन उर्वरक की उपलब्धता करते हुए 73.64 लाख मै0 टन का वितरण किया गया। वर्ष 2016-17 में कुल 89.50 लाख मै0टन लक्ष्य के सापेक्ष 103.64 लाख मै0 टन की उपलब्धता करते हुए 66.85 लाख कु0 बीज वितरण किया गया। वांछित उत्पादन प्राप्त करने एवं मृदा स्वास्थ्य को बनाये रखने के लिए नत्रजन के साथ-साथ फास्फोरस एवं पोटाश के उपयोग पर विशेष बल दिया गया इससे संतुलित उर्वरक प्रयोग को बढ़ावा मिला है।

वर्ष 2015-16 में कुल 84021.09 करोड़ रू0 फसली ऋण वितरण लक्ष्य के सापेक्ष रू0 66478.89 करोड़ का फसली ऋण वितरण किया गया। वर्ष 2016-17 में रू० 93212.60 करोड़ फसली ऋण वितरण लक्ष्य के सापेक्ष रू0 73271.74 का फसली ऋण वितरण किया गया। जिसमें खरीफ में रू० 30051.07 करोड़ रू० तथा रू० 43220.67 करोड़ का फसली ऋण वितरण किया गया है

वर्ष 2015-16 में 32 लाख किसान क्रेडिट कार्ड वितरण के लक्ष्य के सापेक्ष 34.18 लाख किसान क्रेडिट कार्ड का वितरित किया गया वर्ष 2016-17 में कुल 35 लाख किसान क्रेडिट कार्ड वितरण लक्ष्य के सापेक्ष 34.79 लाख किसान क्रेडिट कार्ड का वितरित किये गये।