कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

मृदा स्वास्थ्य का सुदृढ़ीकरण

सेवा प्रदाता/प्रदाताओं द्वारा प्रयोगशालाओं में सेवा हेतु उपरोक्तानुसार उपलब्ध कराये गये कुल 728 कार्मिकों के पारिश्रमिक की धनराशि रू0 812.448 लाख तथा इसी धनराशि रू0 812.448 लाख पर 10 प्रतिशत की दर से सेवा प्रदाता को सेवा शुल्क के रूप में भुगतान की जाने वाली धनराशि रू0 81.244 लाख (812.448×10%=81.244 लाख)। (सम्बन्धित मण्डलों में सेवा प्रदाता द्वारा अलग-अलग सेवा शुल्क (Service Charge) लिये जाने की स्थिति में 10 प्रतिशत की दर या सेवा प्रदाता द्वारा चार्ज (Service Charge) की जाने वाली दर में से जो भी कम हो देय होगी)। इस प्रकार कुल धनराशि 893.69 लाख (812.448+81.244=893.69 लाख) वर्तमान में लागू 15 प्रतिशत की दर से देय सेवा कर (Service Tax) की धनराशि रू0 134.053 लाख (893.69×15%=134.053 लाख) देय होगी। शासन के पत्र संख्या-991/12-2-2014-147 /2007/दिनांक 28.03.2014 के क्रम में ई.पी.एफ. एवं ई.एस.आई. का नियमानुसार भुगतान प्रभावी दरों के आधार पर सेवा प्रदाता को अलग से किया जायेगा, को सम्मिलित करते हुए कुल धनराशि रू0 1174.875 लाख तहसील स्तरीय प्रयोगशालाओं में संविदा कार्मिकों की व्यवस्था हेतु प्रविधानित हैं।

प्रयोगशाला संविदा कार्मिकों के चयन/भुगतान की प्रक्रिया शासनादेश संख्या-2511/12-3-09-7/09/दिनांक 07.08.2009 में दी गयी व्यवस्थानुसार कार्मिकों का चयन एवं तद्नुसार संविदा कार्मिकों का भुगतान सुनिश्चित किया जायेगा।

1.2- प्रयोगशाला संचालन हेतु विविध कार्यों के लिये प्रस्तावित व्यय

इन 182 तहसील स्तरीय मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं के संचालन हेतु विविध कार्यों के लिये व्यय निम्नानुसार किया जायेगा।

(अ) योजना के कार्यक्रमों के सफल संचालन हेतु तहसील स्तर पर अन्य व्यय यथा प्रयोगशाला सफाई कार्य, यात्रा-भत्ता, कार्यालय व्यय, लेखन सामग्री, पी0ओ0एल0, जल आपूर्ति, प्रयोगशाला मरम्मत/अनुरक्षण, अन्य आवश्यक कार्य आदि के लिये धनराशि रू0 156.70 लाख की वित्तीय आवश्यकता होगी, इस धनराशि का व्यय सम्बन्धित सहायक निदेशक (मृदा परीक्षण/कल्चर), क्षेत्रीय भूमि परीक्षण प्रयोगशाला द्वारा अपने-अपने मण्डल के मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं के संचालन पर ही किया जायेगा। प्रयोगशालावार विवरण परिशिष्ट (अ) में दिया गया है।

(ब) धनराशि रू0 10.00 लाख का व्यय संयुक्त कृषि निदेशक, शोध एवं मृदा सर्वेक्षण, उ0प्र0 के निस्तारण पर योजना के अनुश्रवण एवं मूल्याकंन पर किया जायेगा। जिसमें योजना प्रबन्धन, स्टेशनरी, यात्रा भत्ता एवं अन्य आदि योजनान्तर्गत आवश्यक कार्यो पर व्यय किया जायेगा। विवरण परिशिष्ट (अ) में दिया गया है।

1.3 विद्युत व्यय

182 तहसील स्तरीय प्रयोगशालाओं में मृदा परीक्षण कार्य हेतु प्रयुक्त होने वाले उपकरण/संयंत्र विद्युत चालित हैं, मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं के संचालन की नितान्त आवश्यकता को दृष्टिगत रखते हुए विद्युत व्यय के लिये प्रति प्रयोगशाला रू0 0.75 लाख की दर से विद्युत व्यय भुगतान/दायित्वों हेतु कुल धनराशि रू0 136.50 लाख व्यय सम्भावित है। इस धनराशि का व्यय मानक मद 09-विद्युत देय से मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं की आवश्यकतानुसार मण्डल के सहायक निदेशक (मृ0परी0/क0) द्वारा किया जायेगा। प्रयोगशालावार वित्तीय आवश्यकता का विवरण परिशिष्ट (अ) पर दिया गया है।

मृदा स्वास्थ्य सुदृढ़ीकरण कार्यक्रम के अन्तर्गत प्रस्तावित वित्तीय आवश्यकता
क्र0सं0 कार्यमद वित्तीय आवश्यकता
(रू0 लाख में)
1 सेवा प्रदाता/प्रदाताओं द्वारा उपलब्ध कराये गये कर्मचारियों पर अनुमानित व्यय 1174.875
2 विद्युत व्यय 136.50
3 अन्य व्यय (प्रयोगशाला सफाई कार्य, यात्रा-भत्ता, कार्यालय व्यय, लेखन सामग्री, पी0ओ0एल0, जल आपूर्ति, प्रयोगशाला मरम्मत/अनुरक्षण, अन्य आवश्यक कार्य आदि) 156.70
4 अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पर व्यय 10.00
योग 1478.075

मानक मदवार वित्तीय आवश्यकता

क्र0सं0 मानक मद वित्तीय आवश्यकता (रू0 लाख में)
1 09-विद्युत देय 136.50
2 16-व्यावसायिक तथा विशेष सेवाओं के लिए भुगतान 1174.875
3 42- अन्य व्यय 166.70
योग 1478.075

1.5 भौतिक लक्ष्य

इन 182 तहसील स्तरीय मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं द्वारा वित्तीय वर्ष 2017-18 में नेशनल मिशन फॅार सस्टेनेबल एग्रीकल्चर योजनान्तर्गत मृदा स्वास्थ्य कार्ड कार्यक्रम के अन्तर्गत चयनित क्षेत्रों से ग्रिड के अनुसार प्रयोगशाला को आंवटित एवं एकत्रित मृदा नमूनों के विश्लेषण का लक्ष्य निर्धारित हैं। निर्धारित लक्ष्य की पूर्ति उप कृषि निदेशक/उप सम्भागीय कृषि प्रसार अधिकारी के पर्यवेक्षकीय दायित्व के अन्तर्गत सुनिश्चित किया जाना प्रस्तावित है। उप कृषि निदेशक/उप सम्भागीय कृषि प्रसार अधिकारी यह भी सुनिश्चित करेंगे कि उनके पर्यवेक्षकीय दायित्व के अन्तर्गत संचालित प्रयोगशाला में निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष मृदा नमूनों के एकत्रीकरण एवं परीक्षण का कार्य निर्धारित कार्य पंचांग के अनुसार अवश्य सुनिश्चित किया जाये। प्रयोगशाला प्रभारी/अध्यक्ष द्वारा प्रयोगशाला पर मृदा नमूनें प्राप्त करते समय यह सुनिश्चित कर लिया जायें कि ग्रिड आधारित प्राप्त नमूनें के साथ ग्रिड से आच्छादित मुख्य कृषक के साथ अन्य कृषकों का पूर्ण विवरण यथाः ग्रिड/नमूना संख्या, कृषक का नाम, ग्राम का नाम, विकास खण्ड, जनपद, आधार संख्या, मोबाइल नम्बर, दिनांक, खसरा संख्या, क्षेत्रफल, भू-स्थिति (अक्षांश एवं देशान्तर), सिचिंत/असिचिंत आदि सम्बन्धित सूचना अवश्य प्राप्त किये जायें।

महा प्रतिशत महा प्रतिशत महा प्रतिशत
अप्रैल 10 अगस्त 0 दिसम्बर 10
मई 25 सितम्बर 5 जनवरी 5
जून 25 अक्टूबर 5 फरवरी 0
जुलाई 5 नवम्बर 10 मार्च 0

प्रदेश के 05 जनपदों में जनपद स्तरीय मृदा परीक्षण प्रयोगशाला स्थापित न होने के कारण अमेठी, शामली (कैराना), कासगंज, हापुड़ एवं सम्भल की तहसील स्तरीय मृदा परीक्षण प्रयोगशालाएं जनपद स्तरीय मृदा परीक्षण प्रयोगशाला का कार्य भी कर रही हैं। मृदा परीक्षण कार्यक्रम के विस्तार हेतु वर्ष 2017-18 के लिये तहसील स्तरीय मृदा परीक्षण प्रयोगशालावार मृदा नमूनों के परीक्षण के लक्ष्य परिशिष्ट (अ) के अनुसार निर्धारित किये गये हैं। जिसमें निम्नलिखित बातों का ध्यान रखा जाना प्रस्तावित है।

  1. प्रदेश के 05 जनपदों में जनपद स्तरीय मृदा परीक्षण प्रयोगशाला स्थापित न होने के कारण अमेठी, शामली (कैराना), कासगंज, हापुड़ एवं सम्भल की तहसील स्तरीय मृदा परीक्षण प्रयोगशालाएं जनपद स्तरीय मृदा परीक्षण प्रयोगशाला का कार्य भी कर रही हैं। मृदा परीक्षण कार्यक्रम के विस्तार हेतु वर्ष 2017-18 के लिये तहसील स्तरीय मृदा परीक्षण प्रयोगशालावार मृदा नमूनों के परीक्षण के लक्ष्य परिशिष्ट (अ) के अनुसार निर्धारित किये गये हैं। जिसमें निम्नलिखित बातों का ध्यान रखा जाना प्रस्तावित है।
  2. जिन तहसील स्तरीय मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं के लक्ष्य पूरे नहीं किये जा सकेगें, तो उनकी पूर्ति जनपदीय प्रयोगशालाओं से कराया जायेगा।
  3. सम्बन्धित मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं के अध्यक्ष/प्रभारी द्वारा साप्ताहिक एवं मासिक प्रगति सूचना का मण्डल स्तर पर संकलन हेतु सम्बन्धित मण्डल के सहायक निदेशक (मृ0परी0/क0), क्षेत्रीय भूमि परीक्षण प्रयोगशाला को प्रेषित करेंगे। मण्डल स्तर पर सन्दर्भित प्रगति सूचनाओं का संकलन सम्बन्धित सहायक निदेशक, क्षेत्रीय भूमि परीक्षण प्रयोगशाला द्वारा किया जायेगा। वे मण्डल स्तर पर संकलित सूचनाओं को प्रेषण मण्डलीय संयुक्त कृषि निदेशक तथा कृषि निदेशालय के शोध एवं मृदा सर्वेक्षण अनुभाग को प्रत्येक सप्ताह निदेशालय के ई-मेल:-jdarssup@gmail.com पर उपलब्ध करायेगें। ताकि सूचनाओं का संकलन प्रदेश स्तर पर करते हुए उत्तर प्रदेश शासन एवं भारत सरकार को मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना की प्रगति से अवगत कराया जा सकें।

1.6 मृदा स्वास्थ्य का सुदृढ़ीकरण योजना से लाभ

मृदा स्वास्थ्य का सुदृढ़ीकरण कार्यक्रम से निम्नलिखित लाभ हैं:-

  1. भूमि की उर्वरा शक्ति की जानकारी करके फसल विशेष की आवश्यकतानुसार संतुलित रसायनिक उर्वरकों एवं जैविक खादों के प्रयोग की संस्तुति के द्वारा मृदा स्वास्थ्य को अक्षुण्य रखते हुए न्यूनतम उत्पादन लागत पर अधिकतम फसलोत्पादन प्राप्त होगा।
  2. तहसील स्तरीय मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं के संचालन से मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजनान्तर्गत ग्रिड के आधार पर प्रयोगशाला को आवंटित/प्राप्त मृदा नमूनों का स्1 लैब के रूप में मुख्य पोषक तत्वों का विश्लेषण किया जायेगा। इस प्रकार मृदा परीक्षण कार्यक्रम का तहसील स्तर तक विस्तार होगा।
  3. समस्याग्रस्त भूमि जैसे-ऊसर/अम्लीय भूमि का मृदा परीक्षण के उपरान्त आवश्यक मात्रा में मृदा सुधारकों के प्रयोग से समुचित सुधार किया जा सकेगा।
योजना का सत्यापन

योजनान्तर्गत मृदा परीक्षण कार्य का सत्यापन जिलावार किया जायेगा। सत्यापन अधिकारी निम्नवत् सत्यापन का कार्य सुनिश्चित करेंगे:-

क्र0सं0 सत्यापन अधिकारी सत्यापन प्रतिशत
1 उप सम्भागीय कृषि प्रसार अधिकारी 28 प्रतिशत
2 जिला कृषि अधिकारी 20 प्रतिशत
3 कृषि रक्षा अधिकारी 20 प्रतिशत
4 सहायक निदेशक (मृ0परी0/क0)/उप कृषि निदेशक (शोध) 20 प्रतिशत
5 उप कृषि निदेशक 10 प्रतिशत
6 मण्डलीय संयुक्त कृषि निदेशक 02 प्रतिशत

योजना का अनुश्रवण एवं समीक्षा
राज्य स्तर पर कृषि निदेशक, उ0प्र0 के मार्ग-दर्शन में अपर कृषि निदेशक (प्रसार), उत्तर प्रदेश इस योजना की अनुश्रवण एवं समीक्षा करेंगे। संयुक्त कृषि निदेशक (शोध एवं मृदा सर्वेक्षण), अपर कृषि निदेशक (प्रसार) के निर्देशन में अनुश्रवण एवं समीक्षा में सहयोग प्रदान करेंगे तथा प्रत्येक माह संकलित सूचना प्रमुख सचिव (कृषि), उत्तर प्रदेश शासन को पे्रषित करेंगे। मण्डल स्तर पर समस्त संयुक्त कृषि निदेशक, योजना का अनुश्रवण एवं समीक्षा करेंगे तथा मण्डल से सम्बन्धित सभी जनपदों के उप कृषि निदेशक एवं मण्डलीय सहायक निदेशक (मृदा परीक्षण/कल्चर), क्षेत्रीय भूमि परीक्षण प्रयोगशाला उ0प्र0 संयुक्त कृषि निदेशक के निर्देशन में अनुश्रवण एवं समीक्षा में सहयोग प्रदान करेंगे साथ ही साथ जनपद स्तर पर उप कृषि निदेशक कार्यक्रमों का क्रियान्वयन एवं समीक्षा करेंगे तथा सभी तहसील स्तरीय प्रयोगशालाओं में पर्यवेक्षण कार्य हेतु सम्बद्ध विभागीय कर्मचारी, कार्यक्रमों का क्रियान्वयन एवं समीक्षा में सहयोग प्रदान करेंगे एवं प्रगति रिपोर्ट परिशिष्ट ‘ब‘ के निर्धारित प्रारूप पर कृषि निदेशालय के शोध एवं मृदा सर्वेक्षण अनुभाग को प्रत्येक माह साप्ताहिक सूचना निदेशालय के ई-मेलः- jdarssup@gmail.com पर उपलब्ध करायेगें। योजना के कार्यक्रमों में समय-समय पर आवश्यकतानुसार संशोधन का समस्त अधिकार कृषि निदेशक, उत्तर प्रदेश में निहित होगा।