कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

बीज

16.    बीज विश्लेषक की रिपोर्ट :-

  • धारा 15 की उपधारा (2) के अधीन नमूने की प्राप्ति के पश्चात् यथा शीघ्र बीज विश्लेषक नमूने का विश्लेषण राज्य बीज प्रयोगशाला में और वह विश्लेषण के परिणाम की रिपोर्ट की एक प्रति बीज निरीक्षक की उसकी दूसरी प्रति उस व्यक्ति को, जिससे नमूना लिया गया हो, ऐसे में, जो विहित किया जाए, परिदत्त करेगा।
  • इस अधिनियम के अधीन अभियोजन संक्षिप्त किये जाने के पश्चात् अभियोजन विक्रेता या परिवादी विहित फीस देकर न्यायालय के इस बात के आवेदन कर सकेगा कि धारा 15 की उपधारा (2) से खंड (क) से खंड में वर्णित नमूनों में से किसी नमूनें के केन्द्रीय बीज प्रयोगशाला को रिपोर्ट के लिए भेजा जाये और आवेदन की प्राप्ति पर न्यायालय पहले इस बात का अभिनिश्चय करेगा कि धारा 15 की उपधारा (1) के खण्ड (ख) में यथा उपबंधित चिन्ह और मुद्रा या बंधन अविकल हैं और तब वह नमूने को अपनी मुद्रा से अंकित करके केन्द्रीय बीज प्रयोगशाला को भेज सकेगा, जो नमूने की प्राप्ति की तारीख से एक मास के विश्लेषण का परिणाम विनिर्दिष्ट करते हुए विहित प्ररूप में अपनी रिपोर्ट न्यायालय को भेजेगी।
  • केन्द्रीय बीज प्रयोगशाला द्वारा उपधारा (2) के अधीन भेजी गई रिपोर्ट बीज विश्लेषक द्वारा उपधारा (1) के अधीन दी गई रिपोर्ट को अतिष्ठित कर देगी।
  • जहां कि केन्द्रीय बीज प्रयोगशाला द्वारा उपधारा (2) के अधीन भेजी गई रिपोर्ट धारा 19 के अधीन की किसी कार्यवाही में पेश की जाए वहां उस कार्यवाही में यह आवश्यक न होगा कि विश्लेषणार्थ लिया गया कोई नमूना या उसका भाग पेश किया जाए।

17.    अधि सूचित किस्मों या उप किस्मों के बीजों के निर्यात और आयात पर निर्बधन :-

कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति द्वारा (जिसमें वह स्वयं आता है) बोए जाने या रोपण के प्रयोजनार्थ, किसी अधिसूचित किस्म या उपकिस्म के बीज का आयात या निर्यात तब कि सिवाय न तो करेगा और न करवायेगा, जबकि-

  • वह उस बीज के लिए धारा 6 के खंड (क) के अधीन विनिर्दिष्ट अंकुरण और शुद्धता की न्यूनतम सीमाओं के अनुरूप हो तथा
  • वह उस बीज के लिए धारा 6 के खंड (क) के अधीन विनिर्दिष्ट उसकी ठीक विशिष्टयों से युक्त चिन्ह या लेवल विहित रीति से उसके अधान पर लगा हो।

18.    विदेशों के बीज प्रमाणन अभिकरणों को मान्यता :-

समिति की सिफारिश पर केन्द्रीय सरकार विदेश में स्थापित किसी बीज प्रमाणन अभिकरण को शासकीय राजपत्र में अधिसूचना द्वारा इस अधिनियम के प्रयोजनार्थ मान्यता दे सकेगी।

19.    शास्ति :-

यदि कोई व्यक्ति-

  • इस अधिनियम या तदधीन बनाए गये किसी नियम के किसी उपबन्ध का उल्लंघन करेगा, अथवा
  • बीज निरीक्षक को इस अधिनियम के अधीन नमूना लेने से निवारित करेगा, अथवा
  • बीज निरीक्षक को इस अधिनियम द्वारा या उसके अधीन प्रदत्त किसी शक्ति का प्रयोग करने से निवारित करेगा, तो वह दोष सिद्ध किए जो निम्नलिखित प्रकार से दण्डनीय होगा-
    • प्रथम अपराध के लिए, जुर्माने से जो पांच सौ रूपये तक सकेगा तथा
    • उस दशा में जब कि ऐसा व्यक्ति इस धारा के अधीन अपर पहले ही दोष सिद्ध किया जा चुका हो, कारावास से जो छह तक का हो सकेगा, या जुर्माने से जो एक हजार रूपये तक सकेगा, या दोनों से।

20.    सम्पत्ति का समपहरण :-

जब कि कोई व्यक्ति इस अधिनियम या तदृधीन बनाए गए नियमों के उपबन्धों किसी के उल्लंघन के लिए इस अधिनियम के अधीन दोष सिद्ध किया गया है बीज जिसके बारे में उल्लंघन किया गया हो, सरकार को समपह्त किया जा सके।