कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

अधिनियन-2005

अध्याय 3

केन्द्रीय सूचना आयोग
केन्द्रीय सूचना आयोग का गठन
12.
  1. केन्द्रीय सरकार राजपत्र मे अधिसूचना द्वारा केन्द्रीय सूचना आयोग के नाम से ज्ञात इस अधिनियम के अधीन उसको प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग और उसे समनुदेशित कृत्यों का पालन करने के लिए एक निकाय का गठन करेगी।
  2. केन्द्रीय सूचना आयोग निम्नलिखित से मिलकर बनेगा
    1. केन्द्रीय सूचना आयुक्त और
    2. दस से अनधिक उतने केन्द्रीय सूचना उपायुक्त जितने आवश्यक समझे जाएं।
  3. मुख्य सूचना आयुक्त और सूचना उपायुक्त की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा निम्नलिखित से मिलकर बनी समिति की सिफारिश पर की जायेगी।
    1. प्रधानमंत्री जो समिति का अध्यक्षता होगा ।
    2. लोकसभा में विपक्ष का नेता और
    3. प्रधानमंत्री द्वारा नाम निर्दिष्ट संघ मंत्रिमण्डल का एक मंत्री।

    स्पष्टीकरण
    शंकाओं के निवारण के लिए यह घोषित किया जाता है। कि जहॉ लोक सेवा आयोग सभा मे विपक्ष के नेता को उस रूप में मान्यता नहीं दी गई है वहॉ लोक सभा में सरकार के विपक्षी सबसे बड़े एकल समूह के नेता को विपक्ष का नेता समझा जाएगा।

  4. केन्द्रीय सूचना आयोग के कार्यों का साधारण अधीक्षक निदेशक और प्रबंधन केन्द्रीय मुख्य आयोग सूचना आयुक्त मं निहित होगा जिसकी सहायता सूचना आयुक्तों द्वारा की जाएगी और वह ऐसी सभी शक्तियों का प्रयोग कर सकेगा जो इस अधिनियम के अधीन किसी अन्य प्राधिकारी के निर्देशों के अधीन रहे बिना केन्द्रीय सूचना आयोग द्वारा स्वतंत्र रूप से की जा सकती है।
  5. मुख्य सूचना आयुक्त और सूचना आयुक्त विधि , विधान और प्रौद्योगिकी , समाज सेवा , प्रबंधन ,पत्रकारिता , जन माध्यम या प्रशासन तथा शासन का व्यापक ज्ञान और अनुभव रखने वाले जनजीवन में प्रख्यात व्यक्ति होगें।
  6. मुख्य सूचना आयुक्त या सूचना आयुक्त यथास्थिति संसद का सदस्य या किसी राज्य या संघ राज्यक्षेत्र के विधान मंडल का सदस्य नहीं होगा या कोई अन्य लाभ
  7. केन्द्रीय सूचना आयोग का मुख्यालय दिल्ली में होगा और आयोग केन्द्रीय सरकार के पूर्व अनुमोदन से भारत में अन्य स्थानों पर अपने कार्यालय स्थापित कर सकेगा।
पदावधि और सेवा शर्तें
13.
  1. केन्द्रीय सरकार राजपत्र मे अधिसूचना द्वारा केन्द्रीय सूचना आयोग के नाम से ज्ञात इस अधिनियम के अधीन उसको प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग और उसे समनुदेशित कृत्यों का पालन करने के लिए एक निकाय का गठन करेगी।
  2. केन्द्रीय सूचना आयोग निम्नलिखित से मिलकर बनेगा परन्तु प्रत्येक सूचना आयुक्त इस उपधारा के अधीन अपना पद रिक्त करने पर धारा 12 की उपधारा (3) में विनिर्दिष्ट रीति में मुख्य सूचना आयुक्त के रूप में नियुक्ति के लिए पात्र होगा परन्तु यह और कि जहां सूचना आयुक्त को मुख्य सूचना आयुक्त के रूप में नियुक्त किया जाता है वहां उसकी पदावधि सूचना आयुक्त और मुख्य सूचना आयुक्त के रूप में कुल मिलाकर पांच वर्ष से अधिक नहीं होगी
  3. मुख्य सूचना आयुक्त या कोई सूचना आयुक्त, अपना पद ग्रहण करने से पूर्व राष्ट्रपति या उनके द्वारा इस निमित्त प्राधिकृत किसी अन्य व्यक्ति के समक्ष, पहली अनुसूची में इस प्रयोजन के लिए उपवर्णित प्रारूप के अनुसार एक शपथ या प्रतिज्ञा लेगा और उस पर हस्ताक्षर करेगा।
  4. मुख्य सूचना आयुक्त या कोई सूचना आयुक्त, किसी भी समय, राष्ट्रप्रति को संबोधित, अपने हस्ताक्षर सहित लेख द्वारा अपना पद त्याग सकेगा परन्तु मुख्य सूचना आयुक्त या किसी सूचना आयुक्त को धारा 14 में विनिर्दिष्ट रीति से हटाया जा सकेगा।
    1. मुख्य सूचना आयुक्त को संदेय वेतन और भत्ते तथा उनकी सेवा के अन्य निबंधन और शर्तें वे होंगी, जो मुख्य निर्वाचन आयुक्त की हैं ।
    2. मुख्य सूचना आयुक्त को संदेय वेतन और भत्ते तथा उनकी सेवा के अन्य निबंधन और शर्तें वे होंगी, जो निर्वाचन आयुक्त की हैं:परन्तु यदि मुख्य सूचना आयुक्त या कोई सूचना आयुक्त, अपनी नियुक्ति के समय, भारत सरकार के अधीन या किसी राज्य सरकार के अधीन किसी पूर्व सेवा के संबंध में कोई पेंशन (अक्षमता या क्षति पेंशन से भिन्न) प्राप्त कर रहा है तो मुख्य सूचना आयुक्त या सूचना आयुक्त के रूप में सेवा के संबंध में उसके वेतन में से, उस पेंशन की, जिसके अंतर्गत पेंशन का ऐसा कोई भाग भी है, जिसे सारांशिकृत किया गया था और सेवानिवृत्त उपदान के समतुल्य पेंशन को छोड़कर सेवानिवृत्ति फायदों के अन्य रूपों के समतुल्य पेंशन भी है, रकम को कम कर दिया जाएगा:परन्तु यह और कि यदि मुख्य सूचना आयुक्त या सूचना आयुक्त, अपनी नियुक्ति के समय, किसी केन्द्रीय अधिनियम या राज्य अधिनियम द्वारा या उसके अधीन स्थापित किसी निगम में या केन्द्रीय सरकार या राज्य सरकार के स्वामित्वाधीन या नियंत्रणाधीन किसी सरकारी कंपनी में की गई किसी पूर्व सेवा के संबंध में सेवानिवृत्ति फायदे प्राप्त कर रहा है तो केन्द्रीय सूचना आयुक्त या केन्द्रीय सूचना उपायुक्त के रूप में सेवा की बाबत उसके वेतन में से, सेवानिवृत्ति फायदों के समतुल्य पेंशन की रकम कम कर दी जाएगी:परन्तु यह भी कि मुख्य सूचना आयुक्त या सूचना आयुक्त के वेतन, भत्तों और सेवा की अन्य शर्तों से उसकी नियुक्ति के पश्चात् उसका अलाभकर रूप मे नहीं किया जाएगा।
  5. केन्द्रीय सरकार, मुख्य सूचना आयुक्त या सूचना आयुक्त को इस अधिनियम के अधीन उसके कृत्यों के अनुपालन के लिए उतने अधिकारी और कर्मचारी उपलब्ध कराएगी, जितने आवश्यक हों और इस अधिनियम के प्रयोजन के लिए नियुक्त किए गए अधिकारियों और कर्मचारियों को संदेय वेतन और भत्ते तथा उनकी सेवा के अन्य निबंधन और शर्तें ऐसी होंगी, जो विदित की जाएं।