कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

राष्ट्रीय कृषि बीमा

प्रश्न: कृषकों को अपनी फसलों का बीमा कवर प्राप्त करने हेतु कितने प्रीमियम का भुगतान करना होगा ॽ

उत्तर:

  • योजना में दो तरह की प्रीमियम दर रखी गई है
  • क्र.सं. योजना में प्रीमियम दरें
    1 भारत सरकार के निर्देशों के अनुसार रियायती प्रीमियम दर।
    2 बीमा कम्पनी द्वारा घोषित वास्तविक प्रीमियम दर।प्रीमियम दर फसलवार निम्नानुसार होगी।
    मौसम फसलें प्रीमियम दरें
    खरीफ बाजरा, मूँगफली, तिल, सोयाबीन
    धान, मक्का, ज्वार, उर्द, अरहर बीमित राशि का 2.5% या वास्तविक दर, जो कम हो।
    गन्ना वास्तविक प्रीमियम दर
    रबी गेहूं बीमित राशि का 1.5% या वास्तविक दर, जो कम हो
    चना, मटर, मसूर, लाही-सरसों बीमित राशि का 2.0% या वास्तविक दर, जो कम हो
    आलू वास्तविक प्रीमियम।

    प्रश्न: कृषक बीमा कहा से व कैसे करायें ॽ

    उत्तर:

  • ऋणी कृषकों को बैंक द्वारा ऋण स्वीकृति के साथ ही बीमा शुल्क (प्रीमियम की धनराशि) स्वीकृत करने योजना में अनिवार्य रूप से सम्मिलित किया जाता है। गैर ऋणी कृषक अपने क्षेत्र के सहकारी /ग्रामीण/व्यवसायिक बैंकों में निम्न तिथियों तक अपनी फसल का बीमा करा सकते हैं।
  • क्र.म. फसल समय
    1 खरीफ 31 जुलाई या फसल बुवाई के एक माह तक, जो भी कम हो।
    2 रबी 31 दिसम्बर या फसल बुवाई के एक माह तक, जो भी कम हो।
    गैर ऋणी कृषकों को प्रस्ताव फार्म सम्बन्धित बैंक से प्राप्त करके भरकर निर्धारित बीमा शुल्क के साथ बैंक में जमा करना होगा। कृषकों का बैंक में एक खाता होना अनिवार्य है।

    प्रश्न: कब व कैसे योजना के अन्तर्गत क्षतिपूर्ति के दावों को तय किया जाता है ॽ

    उत्तर:

  • राज्य सरकार द्वारा फसलवार निर्धारित तिथियों तक उपज के अनुमान (निर्धारित संख्या में फसल कटाई प्रयोगों के आधार पर) बीमा कम्पनी को उपलब्ध कराये जाते हैं। बीमा कम्पनी द्वारा बीमा इकाई क्षेत्रावार कृषकों को देय क्षतिपूर्ति का आंकलन कर सम्बन्धित बैंक की नोडल शाखाओं के माध्यम से कृषकों के बैंक खातों में जमा करा दी जाती है जिसे कृषक द्वारा लिये गये ऋण के विरूद्ध समायोजित किया जाता है । क्षतिपूर्ति प्राप्त करने हेतु कृषक को कहीं आवेदन देने की आवश्यकता नहीं है। बैंकों द्वारा स्वतः ही बीमा कम्पनी से प्राप्त क्षतिपूर्ति को कृषकों के बैंक खातों में जमा करा दिया जाता है।