कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

राष्ट्रीय कृषि बीमा

प्रश्न: राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना क्या है ॽ

उत्तर:

  • राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना एक फसल बीमा योजना है जिसके अन्तर्गत प्राकृतिक आपदाओं, कृमियों एवं रोगों से फसल नष्ट होने पर बीमा कवरेज के रूप में कृषकों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।
  • प्रश्न: किस तरह के जोखिम से फसलों के नुकसान को योजना में कवर किया गया है ॽ

    उत्तर:

  • निम्न कारणों द्वारा जोखिम से फसलों के नुकसान को योजना में कवर किया जाता है
  • क्र.सं. नुकसान के कारण
    1 प्राकृतिक रूप से आग लगना और बिजली का गिरना।
    2 तूफान,ओला,चक्रवात, टाइफून, समुद्री तूफान आदि।
    3 बाढ़, जलभराव एवं भूस्खलन।
    4 सूखा, शुष्क अवधि।
    5 कृमि/रोग इत्यादि।
    युद्ध, शरारत पूर्ण क्षति एवं अन्य रोके जा सकने वाले जोखिम से होने वाले नुकसान की स्थिति में बीमा कवरेज प्रदान नहीं किया जायेगा।

    प्रश्न: कौन-कौन से कृषक बीमा योजना में सम्मिलित हो सकते हैं ॽ

    उत्तर:

  • बटाईदार काश्तकार सहित अन्य सभी कृषक बैंकों से फसली ऋण लेने वाले एवं गैर ऋणी कृषक सभी योजना में सम्मिलित हो सकते हैं। बटाईदार काश्तकारों को बीमा कराने हेतु बटाईदारी के सत्यापन के सम्बन्ध में आवश्यक प्रमाण पत्र बैंक में प्रस्तुत करना होगा। सहकारी बैंक, ग्रामीण बैंक एवं व्यवसायिक बैंक से फसली ऋण लेने वाले कृषकों को योजना में अनिवार्य रूप से सम्मिलित किया गया है जबकि गैर ऋणी कृषक अपनी इच्छानुसार योजना में सम्मिलित हो सकते हैं। गैर ऋणी कृषकों को जमीन के स्वामित्व के सम्बन्ध में किसान बही/मालगुजारी की रसीद को प्रमाण के रूप में बैंक में प्रस्तुत करना होगा।
  • प्रश्न: क्या योजना के अन्तर्गत कृषकों को अनुदान दिया जा रहा हैॽ यदि हा, तो कितना ॽ

    उत्तर:

  • हॉ, 2 हेक्टेयर या उससे कम जोत के कृषकों (लघु एवं सीमान्त) को वर्तमान खरीफ 2006 में देय प्रीमियम पर 10% का अनुदान दिया जा रहा है।