कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

प्राकृतिक संसाधन प्रबन्धन

वाटर शेड डेवलेपमेंट अंडर W.D.F. (NABARD)

यह योजना बुन्देलखण्ड जोन के जनपद-चित्रकूट, बॉदा, महोबा, हमीरपुर, जालौन, ललितपुर एवं झांसी तथा पूर्वी मैदानी जोनके जनपद-बहराईच, बलरामपुर, विन्ध्यन जोन के जनपद-सोनभद्र में संचालित की जा रही है। कृषि विभाग के भूमि संरक्षण अनुभाग द्वारा वर्ष 2004-05 से जालौन जनपद में योजना क्रियान्वित की जा रही है। शेष जनपदों में अन्य विभागों तथा स्वयं सेवी संस्थाओं द्वारा योजना क्रियान्वित की जा रही है।

क्लिक करें
नाबार्ड इंटीग्रेटेड रेन वाटर मैनेजमेंट

नाबार्ड के ग्रामीण अवस्थपना विकास कोष-11 के अन्तर्गत दसवीं पंचवर्षीय योजना अवधि में गैजेटिक प्लेन के अन्तर्गत 131000 हेक्टेयर क्षेत्र में एकीकृत वर्षा जल प्रबन्धन हेतु रू0 5265.83 लाख की योजना स्वीकृत हेतु नाबार्ड कों प्रेषित की गई है।

क्लिक करें
थारू जनजाति उपयोजना

वर्ष 1991 की जनगणना के आधार पर उत्तर प्रदेश में जनपद लखीमपुर खीरी बलरामपुर (गोण्डा) श्रावस्ती (बहराईच) महराजगंज और बिजनौर को जनजाति बाहुल्य क्षेत्र मे सम्मिलित किया गया हैं प्रदेश मं अनुसूचित जनजातियां का प्रतिशत 0.21 है राज्य सरकार ने अनुसूचित जनजाति के उद्धार के लिए उक्त योजना को मैदानी क्षेत्र में भूमि एवंज ल संरक्षण के साथ वर्ष 1982-83 से लागू किया जिसके लिए सर्वप्रथम तत्कालीन जनपद गोण्डा (बलरामपुर) को चयनित किया गया वर्तमान में जनपद लखीमपुर को चयनित किया गया है। प्रदेश के अनुसूचित जनजाति बाहुल्य अन्य जनपदों मे भी यह योजना भविष्य में लागू करने का प्रयास किया जायेगा।

क्लिक करें
राष्ट्र जलगमन विकास कार्यक्रम