कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

मूंग

खरीफ एग्रोक्लाइमेटिक जोनवार धान संकर धान बासमती एवं सुगंधित धान सिस्टम ऑफ राइस इंटेंसीफिकेशन जीरो टिल से बुवाई मक्का बाजरा ज्वार सॉवा कोदो राम दाना की खेती मूंगफली सोयाबीन तिल अंडी (अरण्ड) अरहर मूंग उर्द सहफसली खेती खरपतवार नियंत्रण लोबिया तोरिया हरा चारा बीज का महत्त्व क्रॉस एवं मोथा ऊसर सुधार कार्यक्रम सनई की खेती जैव उर्वरक महत्ता एवं उपयोग फसल सुरक्षा रसायनों का नाम व मूल्य पोषक तत्व प्रबंधन फसल चक्र यंत्र एवं मशीनरी खरीफ फसलों के आंकड़े (परिशिष्ट एक एवं दो ) एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन कार्यक्रम का मासिक कैलेंडर सघन पद्धतियाँ 2016 मशरूम की खेती जैविक खेती फसलों के अवशेष धान की बुवाई रक्षा रसायन प्रमुख रासायनिक उर्वरक खरीफ फसलों के आंकड़े नकली एवं मिलावटी उर्वरकों की पहचान सत्यापित प्रजातियां महत्वपूर्ण दूरभाष नम्बर

खरीफ में मूंग की बुवाई सामान्यतः प्रदेश के सभी जनपदों में की जाती है किन्तु इसका सबसे अधिक क्षेत्र झांसी, फतेहपुर, वाराणसी, उन्नाव, रायबरेली तथा प्रतापगढ़ जनपदों में हैं। मूंग में खरीफ के मौसम में पीली मोजैक रोग का अधिक प्रकोप होने के कारण इसकी औसत उपज बहुत कम प्राप्त होती है। इसी बात को ध्यान में रखकर मूंग की खेती को जायद में करने पर बल दिया गया है। खरीफ में इसकी अच्छी उपज प्राप्त करने हेतु निम्न सघन पद्धतियां अपनाई जायें।

1. भूमि की तैयारी
दोमट तथा हल्की दोमट भूमि जिसमें पानी का समुचित निकास हो, इस फसल के लिए उत्तम है।

2. बुवाई की समय
मूंग की कम समय में पकने वाली प्रजातियों की बुवाई जुलाई के अन्तिम सप्ताह से अगस्त के तीसरे सप्ताह तक करनी चाहिए।

3. बुवाई की विधि
बुवाई कूंड में हल के पीछे करें। कूंड से कूंड की दूरी 30-35 से.मी. होनी चाहिए।

4. संस्तुत प्रजातियां प्रमुख प्रजातियों का विवरण निम्न है

क्र०सं० प्रजाति विशेषता उपयुक्त समय बोने का अवधि (दिन) पकने की कु./हे. अवरोधिता उपज ग्रहिता कीट रोग क्षेत्र उपयुक्त
1 पन्त मूंग-1 धूमिल हरा दाना 25 जुलाई से 10 अगस्त तक 70-75 8-10 पीला मोजैक सहिष्णु पूर्वी उ.प्र.तथा मैदानी क्षेत्र
2 पन्त मूंग 3 धूमिल हरा दान तदैव 75-85 10-15 तदैव समस्त उ.प्र.
3 नरेन्द्र मूंग 1 तदैव तदैव 65-70 12-15 तदैव तदैव
4 पी.डी.एम. 54 हरा चमकदार तदैव 70-75 10-12 तदैव पूर्वी उ.प्र.
5 पन्त मूंग 4 धूमिल हरा दाना तदैव 65-70 12-15 पीला मोजैक अवरोधी समस्त उ.प्र.
6 पी.डी.एम. 11 तदैव 65-70 10-12 सहिष्णु समस्त उ.प्र.
7 मालवीय ज्योति हरा चमकदार तदैव 65-70 12-15 तदैव समस्त उ.प्र.
8 सम्राट दाना हरा 25 जुलाई 10 अगस्त तक 60-65 8-10 तदैव समस्त उ.प्र.
9 मालवीय जनचेतना हरा एवं मध्यम बड़ा दाना तदैव 60-65 12-15 तदैव समस्त उ.प्र.
10 मालवीय जनप्रिया हरा दाना तदैव 65-70 12-15 तदैव समस्त उ.प्र.
11 मालवीय जागृति हरा दाना तदैव 65-70 12-15 तदैव समस्त उ.प्र.
12 आशा हरा दाना तदैव 65-70 12-15 तदैव समस्त उ.प्र.
13 मेहा 99-125 हरा चमकदार दाना जुलाई 60-75 14-16 तदैव समस्त उ.प्र.
14 टी.एम. 9937 हरा बड़ा दाना जुलाई 60-75 12-15 तदैव समस्त उ.प्र.
15 मालवीय जन कल्याणी हरा बड़ा दाना 25 जुलाई से 10 अगस्त 55-60 12-15 तदैव समस्त उ.प्र.
16 एम.एच. 2.15 हरा चमकदार 25 जुलाई से 10 अगस्त 60-70 12-15 तदैव समस्त उ.प्र.
17 आई.पी. एम 2.3 हरा चमकदार दाना 25 जुलाई से 10 अगस्त 65-70 10-11 तदैव पश्चिमी उ.प्र.
18 श्वेता (के.एम.-2241) तदैव तदैव 60-65 10-12 तदैव सम्पूर्ण उ.प्र.

5. बीज की मात्रा तथा उपचार

(अ) बीज दर
12-15 किग्रा. प्रति हे.।

(ब) उपचार
प्रति किलो बीज को 2.0 ग्राम थीरम तथा 1 ग्राम कार्बेन्डाजिम से शोधित करने के बाद मूंग को राइजोबियम कल्चर के एक पैकेट से 10 कि.ग्रा. बीज का उपचार करना चहिए। अरहर की खेती के अन्तर्गत दिये उपचार के अनुरूप करें।

6. उर्वरक
15 कि.ग्रा. नत्रजन तथा 40 कि.ग्रा. फास्फोरस 20 किग्रा. गंधक प्रति हे. तत्व के रूप में बोते समय कूंड़ों में डालना चहिए। फली बनने के समय 2 प्रतिशत यूरिया घोल के छिड़काव से उपज अधिक मिलती है। 25 किग्रा. सल्फर प्रति हेक्टेयर डाला जाय।