कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

मक्का

खरीफ एग्रोक्लाइमेटिक जोनवार धान संकर धान बासमती एवं सुगंधित धान सिस्टम ऑफ राइस इंटेंसीफिकेशन जीरो टिल से बुवाई मक्का बाजरा ज्वार सॉवा कोदो राम दाना की खेती मूंगफली सोयाबीन तिल अंडी (अरण्ड) अरहर मूंग उर्द सहफसली खेती खरपतवार नियंत्रण लोबिया तोरिया हरा चारा बीज का महत्त्व क्रॉस एवं मोथा ऊसर सुधार कार्यक्रम सनई की खेती जैव उर्वरक महत्ता एवं उपयोग फसल सुरक्षा रसायनों का नाम व मूल्य पोषक तत्व प्रबंधन फसल चक्र यंत्र एवं मशीनरी खरीफ फसलों के आंकड़े (परिशिष्ट एक एवं दो ) एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन कार्यक्रम का मासिक कैलेंडर सघन पद्धतियाँ 2016 मशरूम की खेती जैविक खेती फसलों के अवशेष धान की बुवाई रक्षा रसायन प्रमुख रासायनिक उर्वरक खरीफ फसलों के आंकड़े नकली एवं मिलावटी उर्वरकों की पहचान सत्यापित प्रजातियां महत्वपूर्ण दूरभाष नम्बर

खरीफ फसलों में धान के बाद मक्का प्रदेश की मुख्य फसल है। इसकी खेती, दाने /भुट्टे एवं हरे चारे के लिए की जाती है। मक्का के अन्तर्गत कुल क्षेत्रफल, उत्पादन तथा उत्पादकता के गत वर्षो के आंकड़े परिशिष्ट -1 में दिये गये हैं।

इन आंकड़ो से स्पष्ट है कि मक्का के अन्तर्गत अधिकतर क्षेत्रफल वर्षा पर आधारित है, जिसके कारण उत्पादकता कम है। मक्का की अच्छी उपज के लिए आवश्यक है कि समय से बुवाई, निकाई-गुड़ाई खरपतवार नियंत्रण, उर्वरकों की संतुलित प्रयोग, समय से सिंचाई एवं कृषि रक्षा साधनों को अपनाया जाय। संस्तुत सघन पद्धतियां अपनाकर संकर/संकुल प्रजातियों की उपज सरलता से 35-40 कु. प्रति हे० प्राप्त की जा सकती है। साथ ही अल्प अवधि की फसल होने के कारण बहु फसली खेती के लिए इसका अत्यन्त महत्व है।

सघन पद्धतियां

1. भूमि उपयुक्तता
मक्का की खेती के लिए उत्तम जल निकास वाली बलुई दोमट भूमि उपयुक्त होती है।

2. खेत की तैयारी
पहली जुताई मिट्टी पलटने वाले हल से तथा अन्य दो या तीन जुताइयां देशी हल या कल्टीवेटर या रोटावेटर द्वारा करनी चाहिए।

3. शुद्ध बीज का प्रयोग
अच्छी उपज प्राप्त करने हेतु उन्नतिशील प्रजातियों का शुद्ध बीज ही बोना चाहिए। बुवाई के समय एवं क्षेत्र अनुकूलता के अनुसार प्रजाति का चयन करें। विभिन्न क्षेत्रों के लिए संस्तुत प्रजातियों की सूची] विशेषतायें तथा उपज क्षमता निम्न तालिका में दर्शायी गई है

क्रमांक प्रजाति का नाम पकने की अवधि उपज (कु./हे.)
क) संकर
1 गंगा-11 100-105 45-50
2 सरताज 100-110 45-50
3 एच.क्यू.पी.एम.5 एच.क्यू.पी.एम.8 105-110 50-55
4 दकन-107 90-95 40-45
5 मालवीय संकर मक्का-2 90-95 40-45
6 जे.एच.-3459 80-85 35-40
7 प्रकाश 80-85 35-40
8 पूसा संकर मक्का-5 80-85 35-45
9 विवेक संकर मक्का-27 75-80 25-30
10 शक्ति-1 (QPM) 80-85 80-85 30-35
11 प्रो-316 (4640) 105-110 40-45
12 बायो-9681 105-110 40-45
13 वाई-1402 K 105-110 40-45
14 प्रो-303 (3461) 90-95 40-45
15 केएच-9451 90-95 40-45
16 केएच-510 90-95 40-45
17 एमएमएच-69 90-95 40-45
18 बायो-9637 90-95 40-45
19 बायो-9682 85-95 40-45
20 एमएमएच-113 80-85 35-40
21 एक्स -1123G(3342) 80-85 35-40
ख) संकुल
1 प्रभात 100-110 40-45
2 नवजोत 85-90 35-40
3 पूसा कम्पोजिट-2 85-90 35-40
4 श्वेता सफेद 85-90 35-40
5 नवीन 85-90 35-40
6 आजाद उत्तम 80-85 30-35
7 प्रगति 80-85 30-35
8 गौरव 80-85 30-35
9 कंचन 75-80 25-30
10 सूर्या 75-80 25-30