कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

लोबिया

खरीफ एग्रोक्लाइमेटिक जोनवार धान संकर धान बासमती एवं सुगंधित धान सिस्टम ऑफ राइस इंटेंसीफिकेशन जीरो टिल से बुवाई मक्का बाजरा ज्वार सॉवा कोदो राम दाना की खेती मूंगफली सोयाबीन तिल अंडी (अरण्ड) अरहर मूंग उर्द सहफसली खेती खरपतवार नियंत्रण लोबिया तोरिया हरा चारा बीज का महत्त्व क्रॉस एवं मोथा ऊसर सुधार कार्यक्रम सनई की खेती जैव उर्वरक महत्ता एवं उपयोग फसल सुरक्षा रसायनों का नाम व मूल्य पोषक तत्व प्रबंधन फसल चक्र यंत्र एवं मशीनरी खरीफ फसलों के आंकड़े (परिशिष्ट एक एवं दो ) एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन कार्यक्रम का मासिक कैलेंडर सघन पद्धतियाँ 2016 मशरूम की खेती जैविक खेती फसलों के अवशेष धान की बुवाई रक्षा रसायन प्रमुख रासायनिक उर्वरक खरीफ फसलों के आंकड़े नकली एवं मिलावटी उर्वरकों की पहचान सत्यापित प्रजातियां महत्वपूर्ण दूरभाष नम्बर

लोबिया की खेती चारे व दाने के लिए की जाती है। प्रदेश के पश्चिमी जनपदों में यह बहुत लोकप्रिय है।

1. भूमि की तैयारी
दोमट भूमि उपयुक्त होती है। खेत समतल तथा उचित जल निकास वाला होना चाहिए एक जुताई मिट्टी पलटने वाले हल से करके दो जुताइंया देशी हल अथवा कल्टीवेटर से करनी चाहिए।

2. बुवाई का समय एवं बीज दर
लोबिया की बुवाई वर्षा प्रारम्भ होने पर जुलाई में करें।

3. मुख्य प्रजातियां बीज दर एवं उपज

प्रजाति बीज दर कि.ग्रा./हे. तैयार होने की अवधि (दिन) उपज (कु./हे.)
टा-5269 20 50-60 50-60 (फलिया)
टा-2 40 60-65 300-325 (हरा चारा)
टा-2 30 130-135 14-16 (दाना)
यू.पी.सी.-4200 30 70-80 350 (हरा चारा)
रसियन जाइंट - - -
आई.जी.एफ.-450 - - -
यू.पी.सी.-5287 - - -

4. बीजोपचार
बुवाई के पूर्व बीज को 2 ग्राम थीरम से प्रति किग्रा० की दर से शोधित करने के बाद लोबिया को विशिष्ट राइजोबियम कल्चर से अरहर की फसल के लिए दी गयी विधि के अनुसार उपचारित करके बोना चाहिए।

5. बुवाई
दाना व हरी फलियों के लिए बुवाई पंक्तियों में करनी चाहिए। दाने वाली प्रजाति लोबिया टा-2 की बुवाई पंक्तियों में 45-50 सेमी० तथा 5269 लोबिया की प्रजाति की बुवाई फलियों के लिए 50 सेमी० की दूरी पर करनी चाहिए। चारे तथा हरी खाद के लिए लोबिया की बुवाई छिटककर करनी चाहिए।

6. खाद
नत्रजन 10-15 किग्रा० तथा फास्फोरस 20 किग्रा० प्रति हेक्टर की दर से बुवाई के पहले प्रयोग करना चाहिए।

7. सिंचाई
सूखे की अवस्था में एक या दो सिंचाई अवश्य करें।

8. निकाई-गुड़ाई
बुवाई के 20-25 दिन बाद एक निकाई यदि खरपतवार हो, तो करनी चाहिए।

9. फसल सुरक्षा

1. माहू कीट
यह कीट झुण्डों मैं पोधो पर चिपका रहता है था पत्तियों, फूलों एवं फलियों से रस चूसकर फसल को हानि पहुँचता है।

उपचार
इसकी रोकथाम हेतु निम्न रसायन का छिड़काव करना चाहिए।
1. डाइमिथोएट 30 ई०सी० 1 लीटर प्रति हेक्टर।

2. फली बेधक
इनकी सूंड़ियां फली के अन्दर दाने को खाकर नुकसान पहुंचाती हैं।

उपचार
इनकी रोकथाम हेतु निम्न रसायन का प्रयोग फसल में फूल आने पर करना चाहिए
1. मोनोक्रोटोफास 36 ई०सी० 600 मि० लीटर प्रति हेक्टर।

10. सूत्रकृमि
सूत्रकृमि की रोकथाम के लिए ज्वार की मिश्रित खेती करें।