कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

ज्वार

खरीफ एग्रोक्लाइमेटिक जोनवार धान संकर धान बासमती एवं सुगंधित धान सिस्टम ऑफ राइस इंटेंसीफिकेशन जीरो टिल से बुवाई मक्का बाजरा ज्वार सॉवा कोदो राम दाना की खेती मूंगफली सोयाबीन तिल अंडी (अरण्ड) अरहर मूंग उर्द सहफसली खेती खरपतवार नियंत्रण लोबिया तोरिया हरा चारा बीज का महत्त्व क्रॉस एवं मोथा ऊसर सुधार कार्यक्रम सनई की खेती जैव उर्वरक महत्ता एवं उपयोग फसल सुरक्षा रसायनों का नाम व मूल्य पोषक तत्व प्रबंधन फसल चक्र यंत्र एवं मशीनरी खरीफ फसलों के आंकड़े (परिशिष्ट एक एवं दो ) एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन कार्यक्रम का मासिक कैलेंडर सघन पद्धतियाँ 2016 मशरूम की खेती जैविक खेती फसलों के अवशेष धान की बुवाई रक्षा रसायन प्रमुख रासायनिक उर्वरक खरीफ फसलों के आंकड़े नकली एवं मिलावटी उर्वरकों की पहचान सत्यापित प्रजातियां महत्वपूर्ण दूरभाष नम्बर

ज्वार की खेती मुख्यतः प्रदेश के झांसी, हमीरपुर, जालौन, बांदा, फतेहपुर, इलाहाबाद, फर्रूखाबाद, मथुरा एवं हरदोई जनपदों में होती है। विगत पांच वर्षों के ज्वार के कुल क्षेत्रफल सिंचित क्षेत्र, उत्पादन तथा उत्पादकता के आंकड़ें परिशिष्ट-1 में दिये गये हैं।

प्रजातियों का चयन
अच्छी उपज प्राप्त करने हेतु उन्नतिशील प्रजातियों का शुद्ध बीज ही बोना चाहिए। बुवाई के समय क्षेत्र अनुकूलता के अनुसार प्रजाति का चयन करें। विभिन्न क्षेत्रों के लिए संस्तुत प्रजातियों की विशेषतायें तथा उपज क्षमता तालिका में दर्शायी गयी है।

खेत का चुनाव तथा तैयारी
बलुई दोमट अथवा ऐसी भूमि जहां जल निकास की अच्छी व्यवस्था हो, ज्वार की खेती के लिए उपयुक्त होती हैं। बुन्देलखण्ड क्षेत्र में ज्वार की खेती प्रायः मध्यम भारी एवं ढालू भूमि में की जाती हैं।
मिट्टी पलटने वाले हल से पहली जुताई तथा अन्य दो तीन जुताइयॉ देशी हल से करके खेत को भली भॉति तैयार कर लेना चाहिए।

बुवाई
(अ) समय

ज्वार की बुवाई हेतु जून के अंतिम सप्ताह से जुलाई के प्रथम सप्ताह तक का समय अधिक उपयुक्त है।

(ब) बीज दर
1 हे० क्षेत्र की बुवाई के लिए 10-12 किलोग्राम बीज की आवश्यकता होती है। संकर-7-8 किग्रा०/हे०, संकुल-10-12 किग्रा०/हे०

ज्वार की उन्नतशील प्रजातियां

प्रजाति पकने की अवधि (दिन में) ऊचाई से0मी0 (कु./हे.) दाने की उपज सूखे चारे (कु./हे.) भुट्टे के गुण उपयुक्त क्षेत्र
1 2 3 4 5 6 7
संकुल प्रजातियां
वर्षा 125-130 200-220 25-30 100-110 दो दनिया हल्का बादामी बुन्देलखण्ड को छोडकर समस्त उ0प्र0
सी.एस.बी. 13 105-111 160-180 22-27 100-110 एक दनिया चमकीला हल्का बादामी समस्त उ0प्र0
सी.एस.बी. 15 105-110 220-240 23-28 100-110 एक दनिया चमकीला हल्का बादामी तदैव
एस.पी.बी.-1388 (बुन्देला) 110-115 240-250 30-35 115-120 भुट्टा गठा हुआ एक दनिया दाना बड़ा मोती के समान सफेद चमकीला समस्त उ.प्र.
विजेता 100-110 240-250 30-35 115-120 तदैव तदैव
संकर प्रजातियां
सी.एस.एच 16 105-110 200 38-42 90-95 लम्बा, मध्यम बादामी एक दनिया तदैव
सी.एस.एच 9 110-115 175-200 35-40 80-100 एक दनिया, चमकीला हल्का
सी.एस.एच.14 100-105 180-200 35-40 80-100 तदैव तदैव
सी.एस.एच.18 115-125 180-200 35-40 80-100 तदैव तदैव
सी.एस.एच.13 115-125 160-180 35-40 80-100 तदैव तदैव
सी.एस.एच.23 120-125 180-200 40-45 75-120 तदैव तदैव