कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

अरहर

खरीफ एग्रोक्लाइमेटिक जोनवार धान संकर धान बासमती एवं सुगंधित धान सिस्टम ऑफ राइस इंटेंसीफिकेशन जीरो टिल से बुवाई मक्का बाजरा ज्वार सॉवा कोदो राम दाना की खेती मूंगफली सोयाबीन तिल अंडी (अरण्ड) अरहर मूंग उर्द सहफसली खेती खरपतवार नियंत्रण लोबिया तोरिया हरा चारा बीज का महत्त्व क्रॉस एवं मोथा ऊसर सुधार कार्यक्रम सनई की खेती जैव उर्वरक महत्ता एवं उपयोग फसल सुरक्षा रसायनों का नाम व मूल्य पोषक तत्व प्रबंधन फसल चक्र यंत्र एवं मशीनरी खरीफ फसलों के आंकड़े (परिशिष्ट एक एवं दो ) एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन कार्यक्रम का मासिक कैलेंडर सघन पद्धतियाँ 2016 मशरूम की खेती जैविक खेती फसलों के अवशेष धान की बुवाई रक्षा रसायन प्रमुख रासायनिक उर्वरक खरीफ फसलों के आंकड़े नकली एवं मिलावटी उर्वरकों की पहचान सत्यापित प्रजातियां महत्वपूर्ण दूरभाष नम्बर

दलहनी फसलों में हमारे प्रदेश में चने के बाद अरहर का स्थान है यह फसल अकेली तथा दूसरी फसलों के साथ भी बोई जाती है। ज्वार , बाजरा, उर्द और कपास, अरहर के साथ बोई जाने वाली प्रमुख फसलें हैं। प्रदेश के कुल क्षेत्रफल, कुल उत्पादन तथा उत्पादकता के विगत 5 वर्षो के आंकड़े, परिशिष्ट 2 में दिये गये हैं। हमारे प्रदेश की उत्पादकता अखिल भारतीय औसत से ज्यादा है। सघन पद्धतियों को अपनाकर इसे और बढ़ाया जा सकता है।

1. खेत को चुनाव
अरहर की फसल के लिए बलुई दोमट वा दोमट भूमि अच्छी होती है। उचित जल निकास तथा हल्के ढालू खेत अरहर के लिए सर्वोत्तम होते हैं। लवणीय तथा क्षारीय भूमि में इसकी खेती सफलतापूर्वक नहीं की जा सकती है।

2. खेत की तैयारी
खेत की पहली जुताई मिट्टी पलटने वाले हल से करने के बाद 2-3 जुताइयां देशी हल से करनी चाहिए। जुताई के बाद पाटा लगाकर खेत को तैयार कर लेना चाहिए।

3. उन्न्तिशील प्रजातियॉ
अरहर की प्रजातियों का विस्तृत विवरण निम्नवत् है

क सं. प्रजाति बोने का उपयुक्त सयम पकने की अवधि (दिनो मे) उपज विशेषतायें (कु./हे.) उपयुक्त क्षेत्र एव विशेषताए
क. अगेती प्रजातियां
1 पारस जून प्रथम सप्ताह 130-140 18-20 उत्तर प्रदेश के पश्चिमी क्षेत्रों में इस प्रजाति की फसल ली जा सकती है।
2 यू.पी.ए.एस.-120 जून प्रथम सप्ताह 130-135 16-20 सम्पूर्ण उ.प्र.(मैदानी क्षेत्र) नवम्बर में गेहूं बोया जा सकता है
3 पूसा-992 जून प्रथम सप्ताह 150-160 16-20 उकठा रोग अपरोधी
4 टा-21 अप्रैल प्रथम सप्ताह तथा जुन के प्रथम सप्ताह 160-170 16-20 सम्पूर्ण उ.प्र. के लिए उपर्युक्त
देर से पकने वाली प्रजातियां (260-275 दिन)
5 बहार जुलाई 250-260 25-30 सम्पूर्ण उ.प्र. बंझा रोग अवरोधी
6 अमर जुलाई 260-270 25-30 सम्पूर्ण उ.प्र. बंझा अवरोध मिश्रित खेती के लिये उपयुक्त
7 नरेन्द्र अरहर-1 जुलाई 260-270 25-30 सम्पूर्ण उ.प्र. बंझा अवरोध एवं उकठा मध्यम अवरोधी
8 आजाद जुलाई 260-270 25-30 तदैव
9 पूसा-9 जुलाई 260-270 25-30 बंझा अवरोधी सितम्बर में बुवाई के लिए उपयुक्त
10 पी.डी.ए.-11 सितम्बर का प्रथम पखवारा 225-240 18-20 ""
11 मालवीय विकास(एम.ए.6) जुलाई 250-270 25-30 उकठा एवं बंझा अवरोधी
12 मालवीय चमत्कार (एम.ए.एल.13) जुलाई 230-250 30-32 बंझा अवरोधी
13 नरेन्द्र अरहर 2 जुलाई 240-245 30-32 बंझा एवं उकठा अवरोधी सम्पूर्ण उ.प्र.

4. बुवाई का समय
देर से पकने वाली प्रजातियां जो लगभग 270 दिन में तैयार होती हैं, की बुवाई जुलाई माह में करनी चहिए। शीघ्र पकने वाली प्रजातियों को सिंचित क्षेत्रों में जून के मध्य तक बो देना चाहिए, जिससे यह फसल नवम्बर के अन्त तक पक कर तैयार हो जाय और दिसम्बर के प्रथम पखवारे में गेहूं की बुवाई सम्भव हो सके। अधिक उपज लेने के लिए टा-21 प्रजाति को अप्रैल प्रथम पखवार में (प्रदेश के मैदानी क्षेत्रों में तरार्इ को छोड़कर) ग्रीष्म कालीन मूंग के साथ सह-फसल के रूप में बोने के लिए जायद में बल दिया जा चुका है। इसके तीन लाभ है

(अ) फसल नवम्बर के मध्य तक तैयार हो जाती है एवं गेहूं की बुवाई में देर नहीं होती है

(ब) इसकी उपज जून में (खरीफ) बोई गई फसल से अधिक होती है।

(स) मेड़ो पर बोने से अच्छी उपज मिलती है।

5. बीज का उपचार
सर्वप्रथम एक कि.ग्रा. बीज को 2 ग्राम थीरम तथा एक ग्राम कार्बोन्डाजिम के मिश्रण अथवा 4 ग्राम ट्रइकोडर्मा + 1 ग्राम कारबाक्सिन या कार्बिन्डाजिम से उपचारित करें। बोने से पहले हर बीज को अरहर के विशिष्ट राइजोबियम कल्चर से उपचारित करें। एक पैकेट 10 कि.ग्रा. बीज के ऊपर छिड़ककर हल्के हाथ से मिलायें जिससे बीज के ऊपर एक हल्की पर्त बन जाये। इस बीज की बुवाई तुरन्त करें। तेज धूप से कल्चर के जीवणु के मरने की आशंका रहती है। ऐसे खेतों में जहां अरहर पहली बार काफी समय बाद बोई जा रही हो, कल्चर का प्रयोग अवश्य करें।

6. बीज की मात्रा तथा बुवाई विधि
बुवाई हल के पीछे कूंड़ों में करनी चाहिए। प्रजाति तथा मौसम के अनुसार बीज की मात्रा तथा बुवाई की दूरी निम्न प्रकार रखनी चाहिए। बुवाई के 20-25 दिन बाद पौधे की दुरी, सघन पौधे को निकालकर निश्चित कर देनी चाहिए। यदि बुवाई रिज विधि से की जाए तो पैदावार अधिक मिलती है।

प्रजाति बुवाई का समय बीज की दर कि.ग्रा./हे. बुवाई की दूरी (से.मी.)
पंक्ति से पंक्ति पौधे से पौधे
टा-21 (शुद्ध फसल हेतु) जून का प्रथम पखवारा 12-15 60 20
टा 21 (अप्रैल में मूंग के साथ) अप्रैल प्रथम पखवारा 12-15 75 20
यू.पी.ए.एस.एल.-120 (शुद्ध फसल हेतु) मध्य जून 15-20 45-50 15
आई.सी.पी.एल.-151 मध्य जून 20-25 50 15
नरेन्द्र-1 जुलाई प्रथम सप्ताह 15-20 60 20
अमर जुलाई प्रथम सप्ताह 15-20 60 20
बहार जुलाई प्रथम सप्ताह 15-20 60 20
आजाद जुलाई प्रथम सप्ताह 15 90 30
मालवीय-13 (चमत्कार) जुलाई प्रथम सप्ताह 15 90 30
मालवीय विकास जुलाई प्रथम सप्ताह 15 90 30
नरेन्द्र अरहर-2 जुलाई 15 60 20
पूसा बहार-9 जुलाई 15 60 20