कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

उर्द

फसल सुरक्षा

उर्द में प्रायः पीले चित्रवर्ण (मोजैक) रोग का प्रकोप होता है। इस रोग के विषाणु सफेद मक्खी द्वारा फैलते है।

नियंत्रण

  • समय से बुवाई करनी चाहियें।
  • पीला चित्र वर्ण (मौजेक) अवरोधी प्रजातियोकी बुवाई करनी चाहियें।
  • चित्रवर्ण (मोजैक) प्रकोप पौधे दिखते ही सावधानी पूर्वक उखाड़ कर नष्ट कर जला देना चाहिए या गड्ढ़े में गाढ़ दें।
  • 5 से 10 प्रौढ़ मक्खी प्रति पौध की दर से दिखाई पड़ने पर मिथाइल पड़ने पर मिथाइल ओ-डिमेटान 25 ई.सी. या डाईमेथोएट 30 ई.सी. 1 लीटर प्रति हे. की दर से 600-800 ली. पानी में मिलाकर छिडकाव करना चाहियें।

थिप्स

इस कीट के शिशु एवं प्रौढ़ दोनों पत्तियों एवं फूलों से रस चूसते है। भारी प्रकोप होने पर पत्तियों से रस चूसने के कारण वे मुड़ जाती हैं तथा फूल गिर जाते हैं जिससे उपज पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

नियंन्त्रण

मिथाइल-ओ-डिमेटान 25% ई०सी० 1 लीटर या डायमिथोएट 30% ई०सी० 1 लीटर प्रति हे० की दर से 600-800 ली० पानी में घोल कर छिड़काव करना चाहिए।

हरे फुदके

इस कीट के प्रौढ़ एवं शिशु दोनो पत्तियों से रस चूस कर उपज पर प्रतिकूल प्रभाव डालते है।

नियंन्त्रण

थिप्स के लिये बतायें गये कीटनाशकों के प्रयोग से हरे फुदके का नियन्त्रण किया जा सकता है।

फलीवेधक

किन्ही-2 वर्षों में फली वेधकों से फसल को काफी हानि होती है। इनके नियंत्रण के लिए फेन्थ्रएट 50% ई०सी० 2.00 लीटर अथवा क्यूनालफास 25% ई०सी० 1.25 लीटर प्रति हे० की दर से 600-800 लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करना चाहिए।

कटाई एवं भण्डारण

फसल पूरी तरह पक जाने पर जब फलियॉ काली हो जाये तो कटाई करना चाहियें। उर्द की फलियां एक साथ ही पक जाती है। तथा चिटकती नही। अतः फसल की कटाई एक साथ ही की जा सकती है। भण्डारण मूंग की भाति करे। नीम की पत्तियों का भी प्रयोग करना चाहिये।

प्रमुख बिन्दु

  • उर्द की बुवाई 15 फरवरी से 15 मार्च तक।
  • सुपर फास्फेट का प्रयोग बेसल ड्रेसिंग में अधिक लाभदायक रहता है।
  • पहली सिचाई बुवाई के 30-35 दिन बाद करे
  • बीजोपचार राइजोबियम कल्चर एवं पी०एस०बी० से अवश्य करें।
  • यदि आलू के बाद उर्द की फसल ली जाती है तो नत्रजन के प्रयोग की आवश्यकता नहीं है।
  • थ्रिप्स के लिए निगरानी रखें। प्रथम सिंचार्इ के पहले नियंत्रण हेतु सुरक्षात्मक छिड़काव करें।