कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

सहफसली खेती

जायद के मौसम में मुख्य फसलों के साथ सहफसलों को लेने से किसानों को उनकी भूमि से न केवल कुल उत्पादन बढ़ाने में सहायता मिलती है अपितु प्रतिकूल परिस्थितियों में क्षति के कम होने की भी संभावना बढ़ जाती है। इससे विभिन्न कृषि निवेशों की लागत में कमी लायी जा सकती है। तथा भूमि में उपलब्ध तत्वों व सूर्य की रोशनी का प्रभावी उपयोग किया जा सकता है। साथ ही किसानों को इसके कार्य दिवस में भी बढ़ोत्तरी होती है अतः सहफसली खेती का अधिक से अधिक उपयोग किया जाना उचित होगा।

सहफसली खेती में अपनायी जाने वाली शस्य क्रियाएं

सहफसली खेती में मुख्यतः दो फसलें (मुख्य फसल एवं सहफसल) होती है। इन फसलों के चुनाव के लिए कुछ बातों को ध्यान में रखना अत्यन्त आवश्यक है। जैसे, दानों फसलें एक ही जाति की न हों तथा दोनों फसलों का पोषक तत्व उपयोग करने का भूमि स्तर अलग-अलग हो, साथ ही एक फसल की छाया दूसरे पर न पड़े। उपयुक्त होगा कि दो फसलों में से एक फसल दलहनी हो।

मुख्य फसल की शस्य क्रियांए सामान्यतः इस पुस्तिका में दिए गये विवरण के अनुसार अपनायी जाए। इसी प्रकार मुख्य फसल एवं सहफसल पर लगने वाले रोगों व कीटों की रोकथाम भी सामान्यतः पूर्व में दी गई संस्तुतियों के अनुसार की जाएं। अन्य शस्य क्रियाएं निम्न प्रकार होंगी

क्र०सं० सहफसलें उन्नत प्रजातियां पंक्ति अनुपात बीज दर प्रति हेक्टर
  मुख्य फसल सह फसल मुख्य फसल सह फसल
1 गन्ना+मूंग अथवा गन्ना+उर्द को०शा० 8315 मालवीय ज्योति 1:2 (गन्ना में) 60-70 कुन्तल 10-12 किलोग्राम
को०शा० 7918 मालवीय जन चेतना 90 से०मी० पर बनी पंक्तियों के बीच
को०शा० 767 आई०पी०एम० 2-3 दो पंक्ति मूंग की
को०शा० 802 पन्त मूंग 2
नरेन्द्र मूंग 1
उर्द टा० 9
आजाद 1,2
पन्त-35 1:2 गन्ना में
को०शा० 1158 सम्राट पन्त- 19 पंक्ति से पंक्ति की दूरी 75 से०मी० होने पर
बी०ओ० 91 उर्दयू०पी०-19
2 मक्का+मूंग तरूण, नवीन, श्वेता, नवजोत,कंचन, डी-765 सूर्या, आजाद, उत्तम, किरन पन्त मूंग 1, 1:1 18-20 8-10
पन्त मूंग 2, किलोग्राम किलोग्राम
नरेन्द्र मूंग 1
3 सूरजमुखी+मूंग मार्डन पन्त मूंग 1, 1:1 संकुल 8-10
के०बी०एस० पन्त मूंग 2, 12-15 किग्रा०
एच०-1 नरेन्द्र मूंग 1 किलोग्राम संकर
4 कपास+मूंग अमेरिकन प्रजाति विकास एच० 777 एफ० 505 एफ० 846 आर०एस० 810 आर०एस० 2013 देशी प्रजाति आर०जी० 8 एच०डी० 123 पन्त मूंग 1, 1:1 5-6 किग्रा० अमेरिकन 20 किग्रा० 8-10 किग्रा० देशी 15 किग्रा०
पन्त मूंग 2,
नरेन्द्र मूंग 1
आई०पी०एम० 2-3
5 मक्का+उर्द तरूण, नवीन, श्वेता,नवजोत,कंचन, डी-765 सूर्या, आजाद, उत्तम, किरन टाइप 9 1:1 18-20 8-10
पन्त यू 19 किग्रा० किग्रा०
पन्त यू 35
आजाद 1,2
6 कपास+उर्द अमेरिकन प्रजाति विकास एच० 777 एफ० 505 एफ० 846 आर०एस० 810 आर०एस० 2013 देशी प्रजाति आर०जी० 8 एच०डी० 123 टाइप 9 1:1 अमेरिकन विकास, एच-777, एफ-505 एफ-846, आर०एस०-2013 देशी आर०जी-8ए एच०डी०-123 8-10
पन्त यू 19 किग्रा०
पन्त यू 35
आजाद 1,2
7 अरहर-मूंग टा०21 पन्त मूंग 1, 1:2 10-12 12-15 किग्रा०
उपास-120 पन्त मूंग 2, किग्रा०
नरेन्द्र मूंग 1
8 गन्ना+ग्रीष्म कालीन मूंगफली क्षेत्र के अनुसार गन्ने की संस्तुति प्रजाति डी०एच०-86, आई०सी०जी० एस० 44 2:3 60-70 कु०/हे० 95-100 किग्रा० प्रति हे०