कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

राई-सरसों के रोग

3-तुलासिता रोग

पहचान

रोकथाम

  • गर्मी में गहरी जुताई करनी चाहिए।
  • समय से बुवाई करें।
  • पौधों की बुवाई उचित दूरी पर करनी चाहिए।
  • अत्यधिक वनस्पतिक बढत से बचना चाहिए।
  • पानी का समुचित प्रबन्धन करना चाहिए।
  • भूमिशोधन हेतु ट्राइकोडरमा बिरडी 1.0 प्रतिशत डब्यू0पी0 अथवा ट्राइकोडरमा हारजेएनम 2.0 प्रतिशत डब्लू0पी0 2.5 किग्रा0 प्रति हे0 60-70 किग्रा0 सडी हुए गोबर की खाद में मिलाकर हल्के पानी का छिंटा देकर 8-10 दिन तक छाया में रखने के उपरान्त भूमि में मिला देना चाहिए।
  • बीजशोधन हेतु थीरम 75 प्रतिशत डब्लू0पी0 2.5 ग्राम प्रति किग्रा0 बीज की दर से बीजशोधित कर बुवाई करना चाहिए।

रसायनिक नियंत्रण

रसायनिक नियंत्रण हेतु निम्नलिखित कीटनाशकों में से किसी एक का प्रयोग करना चाहिए।

  • हेतु मैंकोजेब 75 प्रतिशत डब्लू0पी0 2.0 किग्रा0 प्रति हे0 की दर 600-700 ली0 पानी में घोलकर छिडकाव करना चाहिए।
  • जिनेब 75 प्रतिशत डब्लू0पी0 की 2.0 किग्रा0 प्रति हे0 की दर से 600-700 ली0 पानी में घोलकर छिडकाव करना चाहिए।
  • जिरम 80 प्रतिशत डब्लू0पी0 की 2.0 किग्रा0 प्रति हे0 की दर से 600-700 ली0 पानी में घोलकर छिडकाव करना चाहिए।
  • कापर आक्सीक्लोराइड 50 प्रतिशत डब्लू0पी0 की 3.0 किग्रा0 मात्रा प्रति हे0 की दर से 600-700 ली0 पानी में घोलकर छिडकाव करना चाहिए।

फली आने की अवस्था

(फरवरी-मार्च)

1-चित्रित बग

पहचान

रोकथाम

  • गर्मी में गहरी जुताई करनी चाहिए।
  • समय से बुवाई करें।
  • पौधों की बुवाई उचित दूरी पर करनी चाहिए।
  • अत्यधिक वनस्पतिक बढत से बचना चाहिए।
  • पानी का समुचित प्रबन्धन करना चाहिए।
  • खेत की निगरानी करते रहना चाहिए। 5 गंधाश(फेरोमैन ट्रैप) प्रति हे0 की दर से प्रयोग करना चाहिए।
  • बैसिलस थूरिनजिएन्सिस(बी0टी0) 1.0 किग्रा0 प्रति हे0 की दर से 400-500 ली0 पानी में घोलकर आवश्यकतानुसार 15 दिन के अन्तराल पर सायंकाल छिडकाव करना चाहिए।
  • एजार्डिरैक्टिन(नीम आयल) 0.15 प्रतिशत ई0सी0 2.5 ली0 प्रति हे0 की दर से 600-700 ली0 पानी में घोलकर छिडकाव करना चाहिए।

रसायनिक नियंत्रण

  • रसायनिक नियंत्रण हेतु डाईमेथोएट 30 प्रतिशत ई0सी0 1.0 ली0 प्रति हे0 की दर से 600-700 ली0 पानी में घोलकर छिडकाव करना चाहिए।
  • मिथाइल-ओ-डिमेटान 25 प्रतिशत ई0सी0 1.0 ली0 प्रति हे0 की दर से 600-700 ली0 पानी में घोलकर छिडकाव करना चाहिए।
  • क्लोरोपाइरीफास 20 प्रतिशत ई0सी0 की 1.0 ली0 प्रति हे0 की दर से 600-700 ली0 पानी में घोलकर छिडकाव करना चाहिए।
  • मोनोक्रोटोफास 36 प्रतिशत एस0एल0 की 500 मिली0 प्रति हे0 की दर से600-700 ली0 पानी में घोलकर छिडकाव करना चाहिए।