कृषि विभाग,

उत्तर प्रदेश

पारदर्शी किसान सेवा योजना,

किसान का अधिकार किसान के द्वार

कृषि तिलहन

प्रसार अधिकारी प्रशिक्षण

नवीनतम कृषि प्रौद्योगिकी का कृषकों तक शीघ्र एवं प्रभावी हस्तान्तरण करने के लिए प्रसार अधिकारी प्रशिक्षण की इस वर्ष व्यवस्था की गई है। भारत सरकार द्वारा इस मद में रू0 36000/-(रू0 छत्तीस हजार मात्र) प्रति दो दिवसीय प्रशिक्षण में 20 अधिकारियों के बैच हेतु अनुमन्य है। प्रत्येक अधिकारी पर रु0 900 प्रतिदिन का व्यय भारित किया जायेगा। इन प्रशिक्षणों में पर्याप्त संख्या में अधिकारियों की सहभागिता सुनिश्चित करने के लिए इनका पर्याप्त प्रचार-प्रसार भी कराया जाय। यथा सम्भव इन प्रशिक्षणों का आयोजन खण्ड प्रदर्शन एवं बीज ग्राम योजना से सम्बद्ध करते हुए किया जाय। प्रसार अधिकारी प्रशिक्षण की मदवार फॉट निम्नवत् है-

Components Rate Amount ( Rs.)
Training material/stationery/ venue cost/ Audio-visual aids etc Rs. 5000/- per training 5000.00
Lodging/Travel/Transport/Visits etc Rs.15000/- per training 15000.00
Honorarium to Trainer/Scientist Rs.500/lecture X 8 Lectures in two days 4000.00
2 Meals /Refreshment for officers/extension workers @Rs.300/day X 20 officers/ extension workers X 2 days 12000.00
TOTAL 36000.00

नेशनल मिशन ऑन ऑयल सीड्स एण्ड ऑयल पॉम (N.M.O.O.P.) मिनी मिशन-। oilseeds (तिलहन कार्यक्रम) एंव मिनी मिशन-।।। Tree Borne oilseeds (वृक्षजनित तेल कार्यक्रम) हेतु सामान्य निर्देश

फलैक्सी फण्ड

भारत सरकार द्वारा प्रदत्त दिशा निर्देशों के अनुसार प्रदेश में नेशनल मिशन ऑन ऑयल सीड्स एण्ड ऑयल पॉम मिनी मिशन-।।। के अन्र्तगत कुल मात्राकृत धनराशि के 10 प्रतिशत की सीमा तक फलैक्सी फण्ड का प्राविधान किया गया है। जिसके अन्तर्गत सेमीनार तथा डीजल पम्पसेट वितरण को शामिल किया गया है।

महिलाओं की भागीदारी

जेण्डर फोकस कार्यक्रम के अन्र्तगत महिलाओं की भागीदारी पर बल दिया जायेगा, जिसमें कृषि रक्षा उपकरण वितरण, स्प्रिंकलर सेट, एच0डी0पी0ई0 पाइप, उन्नतशील कृषि यंत्र वितरण आदि प्रत्यक्ष रुप से प्रदान किये जाने वाले कृषि निवेशों में 30 प्रतिशत महिलाओं की भागीदारी करायी जाय।

इन्टर क्रापिंग(सहफसली खेती)

गन्ना तथा अन्य फसलों के साथ इन्टर क्रापिंग(सहफसली खेती) स्थानीय आवश्यकताओं के अनुरूप कराने पर विशेष जोर दिया जाय।

स्पेशल कम्पोनेन्ट

यह विशेष रूप से सुनिश्चित किया जाय कि उपर्युक्त अंकित समस्त कार्यमदों में कार्यक्रम का लाभ 25 प्रतिशत अनुसूचित जाति एवं जनजाति के कृषकों को अवश्य प्राप्त हो। जिस जनपद में 25 प्रतिशत अनुसूचित जनजाति के कृषक न हो, वहां पूरा 25 प्रतिशत अनुदान अनुसूचित जाति के कृषकों को प्राप्त हो। इसके लिए आवश्यक है कि कार्यक्रम अन्र्तगत विभिन्न मदों के 25 प्रतिशत भौतिक लक्ष्य उक्त श्रेणी के कृषकों हेतु निर्धारित किये जाये। साथ ही साथ बिक्री केन्द्रों पर कृषि निवेशों के वितरण का लेखा-जोखा सामान्य एवं अनुसूचित जाति एवं जनजाति के कृषकों हेतु अलग-अलग रखा जाय, ताकि स्पेशल कम्पोनेन्ट के बीजक अलग बनाकर उन पर हुए व्यय का सही-सही निर्धारण किया जा सके।

भौतिक सत्यापन

नेशनल मिशन ऑन ऑयल सीड्स एण्ड ऑयल पॉम (N.M.O.O.P.) मिनी मिशन-। oilseeds (तिलहन कार्यक्रम) एंव मिनी मिशन-।।। ज्तमम इवतदम oilseeds (वृक्षजनित तेल कार्यक्रम) के अर्न्तगत देय सुविधाओं /लाभ पात्र कृषकों को प्राप्त होना सुनिश्चित करने के लिये यह आवश्यक है कि सम्बंधित कार्य मदों में हुये कार्य/प्रगति का स्थलीय भौतिक सत्यापन किया जाय।